IND vs AUS 4th Test : पंत ने रचा इतिहास, ऑस्ट्रेलिया में शतक लगाने वाले पहले विकेटकीपर बने, भारत ने पहली पारी 622/7 पर किया घोषित


भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार मैचों की टेस्ट सीरीज का अंतिम मैच सिडनी क्रिकेट ग्राउंड में खेला जा रहा है। दूसरे दिन के खेल खत्म होने तक भारत ने अपनी  स्थिति काफी मजबूत कर ली है। चेतेश्वर पुजारा के 193 और विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत के नाबाद 159 रनों के पारी की बदौलत भारत ने 7 विकेट पर 622 रनों पर घोषित कर दिया है। ऑस्ट्रेलिया ने दिन का खेल खत्म होने तक बिना विकेट खोए 24 रन बना लिए हैं और अभी भी ऑस्ट्रेलिया भारत के पहली के पहली पारी  से 598 रन पीछे है। भारत सीरीज में अभी 2-1 से आगे हैं और पहली बार ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीतने के काफी करीब पहुंच गया है।
विस्फोटक बल्लेबाज ऋषभ पंत ने 189 गेंदों में 15 चौके और एक छक्के की मदद से नाबाद 159 रनों की बेमिसाल पारी खेली। पंत ने अपनी शतकीय पारी में कई रिकॉर्ड ध्वस्त किए और दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक मैच में अभी तक कई रिकॉर्ड बन चुके है।
जानिए, मैच में बने अभी तक के रिकॉर्ड के बारे में –
(1.) ऋषभ पंत ने किसी भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज द्वारा विदेश में सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर बनाने का रिकॉर्ड अपने नाम किया। इससे पहले यह रिकॉर्ड पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के नाम था जिन्होंने 2006 में पाकिस्तान के खिलाफ फैसलाबाद में 148 रनों की पारी खेली थी।
(2.) पंत ने नाबाद 159 रनों की पारी खेलकर  किसी एशियाई विकेटकीपर द्वारा विदेश में सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर बनाने के रिकॉर्ड की बराबरी भी कर कर लिया। इससे पहले यह रिकॉर्ड बांग्लादेश के मुस्फिकुर रहीम के नाम था। रहीम ने न्यूजीलैंड के खिलाफ 2016 में वेलिंगटन में 159 रन बनाया था।
(3.) ऋषभ पंत की नाबाद 159 रनों की पारी ऑस्ट्रेलिया में किसी विकेटकीपर का दूसरा बड़ा व्यक्तिगत स्कोर है। दक्षिण अफ्रीका के दिग्गज बल्लेबाज एबी डिविलियर्स के नाम बतौर विकेटकीपर ऑस्ट्रेलिया में सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर बनाने का रिकॉर्ड है। डिविलियर्स ने नवंबर 2012 में पर्थ टेस्ट मैच में 169 रनों की लाजवाब पारी खेली।
(4.)  आपको जानकर आश्चर्य होगा कि अभी तक कोई भी भारतीय विकेटकीपर ऑस्ट्रेलिया में शतक नहीं लगा सका था।ऋषभ पंत ऑस्ट्रेलिया में शतक लगाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने। फारुख इंजीनियर के नाम इससे पहले ऑस्ट्रेलिया में भारतीय विकेटकीपर द्वारा सबसे अधिक व्यक्तिगत रन बनाने का रिकॉर्ड था। उन्होंने 1967 में एडिलेड टेस्ट में 89 रनों की पारी खेली थी। आपको बता दें कि ऋषभ पंत ने इससे पहले इंग्लैंड में भी शतक लगाने वाले पहले विकेटकीपर बने थे। पंत ने अगले साल ओवल के मैदान में चौथी पारी में शानदार 114 रन बनाए थे।
(5.)ऋषभ पंत एशिया महाद्वीप से बाहर दो शतक लगाने पहले भारतीय विकेटकीपर बने। पंत से पहले सिर्फ तीन भारतीय खिलाड़ी ही एशिया से बाहर शतक लगा पाए हैं। विजय मांजरेकर 118( विरुद्ध वेस्टइंडीज, किंग्सटन, 1953), अजय रात्रा 115* ( विरुद्ध वेस्टइंडीज, सेंट जॉन्स, 2002) और रिद्धिमान सहा 104 ( विरुद्ध वेस्टइंडीज , ग्रोस लेट 2016) ने एशिया से बाहर शतक लगाए थे।
(6.) ऋषभ पंत ने विदेश में भारतीय विकेटकीपर द्वारा टेस्ट सीरीज में सबसे अधिक रन बनाने का रिकॉर्ड भी अपने नाम किया। ऑस्ट्रेलिया दौरे में अभी तक पंत ने सात पारियों में 350 रन ठोक डाले हैं और उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी के इंग्लैंड के खिलाफ 2014 में बनाए 349 रनों के रिकॉर्ड को ध्वस्त किया। धोनी ने 349 रन बनाने के लिए जहां 10 पारियां खेली वहीं पंत ने मात्र 7 पारियों में ही 350 रन बना डाले।
(7.) ऋषभ पंत ने 21 साल 92 दिन की उम्र में ऑस्ट्रेलिया में शतक मारा और वे सचिन तेंदुलकर के बाद ऑस्ट्रेलिया में सबसे कम उम्र में शतक लगाने वाले दूसरे खिलाड़ी बने। सचिन तेंदुलकर ने 18 वर्ष की उम्र में 1991-92 में सिडनी और पर्थ में दो शतक लगाए थे।
(8.) 21 साल की उम्र में टेस्ट मैच में 2 शतक लगाने वाले ऋषभ पंत दुनिया के पहले विकेटकीपर बने। पंत से पहले 21 की उम्र में सिर्फ तीन विकेटकीपर बल्लेबाज ही शतक लगा सके हैं और उनमें से दो भारतीय विकेटकीपर (विजय मांजरेकर और अजय रात्रा) तथा तीसरा जिंबाब्वे के टैटेंडा टैइबु है।
(9.) 10 साल बाद भारत ने SENA (दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया) में 500 से अधिक का स्कोर बनाया। मार्च 2009 में न्यूजीलैंड के खिलाफ हैमिल्टन में भारत ने 520 रन का स्कोर खड़ा किया था।
(10.) 623 रनों का स्कोर ऑस्ट्रेलिया में भारत का दूसरा सबसे बड़ा स्कोर है। भारत ने 2004 में सचिन तेंदुलकर के नाबाद 241 रनों के दोहरे शतक की बदौलत 705 रनों का विशाल स्कोर बनाया था और आश्चर्य की बात  है कि यह टेस्ट भी नए साल में सिडनी के ही ग्राउंड में खेला गया था।
(11.) ऋषभ पंत और रविंद्र जडेजा ने सातवें विकेट के लिए 204 रनों की साझेदारी दिया और ऑस्ट्रेलिया में सातवें विकेट के लिए यह सबसे बड़ी साझेदारी है। पंत - जडेजा की जोड़ी ने 13 साल पुराने वेस्टइंडीज के ड्वेन ब्रावो और दिनेश रामदीन के 182 रनों के रिकॉर्ड साझेदारी को तोड़ा।
(12.) चेतेश्वर पुजारा ने 193 रनों की बेहतरीन पारी खेली और ऑस्ट्रेलिया में भारतीय बल्लेबाज द्वारा यह सातवां सबसे बड़ा व्यक्तिगत स्कोर है। ऑस्ट्रेलिया में सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर बनाने का रिकॉर्ड महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के नाम है। सचिन ने 2004 में इसी मैदान में नाबाद 241 रनों की ऐतिहासिक पारी खेली थी।\
(13.) चेतेश्वर पुजारा इस सीरीज में अभी तक 1258 गेंद खेल चुके हैं और चार मैचों की टेस्ट सीरीज में सबसे अधिक गेंद  खेलने वाले दुनिया के चौथे खिलाड़ी बने। वेस्टइंडीज के रिची रिचर्ड्सन  के नाम सबसे अधिक 1358 गेंद खेलने का रिकॉर्ड है। रिचर्डसन ने भारत के खिलाफ 1988 में इस रिकॉर्ड को बनाया था। भारतीय बल्लेबाजों में राहुल द्रविड़ के नाम  टेस्ट सीरीज में सबसे अधिक 1336 गेंद खेलने का रिकॉर्ड है ।पुजारा इस सीरीज में अब तक 521 रन बना चुके हैं और विराट कोहली (692 , 2014-15) और राहुल द्रविड़ ( 619, 2003-04) के बाद ऑस्ट्रेलिया में किसी टेस्ट सीरीज में सबसे अधिक रन बनाने वाले तीसरे भारतीय खिलाड़ी बने।
(14.) नाथन लायन ने भारत के खिलाफ पहली पारी में 57.2 ओवर गेंदबाजी की जो उनका टेस्ट मैच की एक पारी में  सबसे अधिक ओवर फेंकने का रिकॉर्ड है। लायन ने अगले साल अक्टूबर में पाकिस्तान के खिलाफ दुबई में 52 ओवर गेंदबाजी की थी।
(15.) ऋषभ पंत  के 159 रनों की पारी भारतीय विकेटकीपर का तीसरा सर्वाधिक स्कोर हैं। पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के नाम भारत की ओर से विकेटकीपर द्वारा सर्वाधिक व्यक्तिगत रन बनाने का रिकॉर्ड है। 2013 में धोनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घर में खेले गए टेस्ट सीरीज में चेन्नई में 224 रनों की बेहतरीन पारी खेली थी। धोनी एकमात्र भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज है जिन्होंने टेस्ट मैच में दोहरा शतक लगाया है। पूर्व विकेटकीपर बुधी कुंडेरन ने 1964 में इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई में ही 192 रन बनाए थे और उनके रिकॉर्ड को महेंद्र सिंह धोनी ने तोड़ा था।