क्रिकेट न्यूज़/जैक कैलिस बोले- विराट कोहली फिट रहते हैं तो कोई भी रिकॉर्ड उसकी पहुंच से दूर नहीं





दक्षिण अफ्रीका के पूर्व ऑलराउंडर जैक कैलिस को लगता है कि केवल विराट कोहली ही दुनिया के एकमात्र ऐसे बल्लेबाज है जो सचिन तेंदुलकर के 100 अंतरराष्ट्रीय शतकों के रिकॉर्ड को तोड़ सकते हैं। कैलिस ने कहा कि चीजों को सरल रखने की काबिलियत भाारतीय कप्तान की सबसे बड़ी खूबी है। विराट कोहली ने 30 साल की उम्र में 66 अंतरराष्ट्रीय शतक जड़ दिए हैं और इस दिग्गज खिलाड़ी का मानना है कि वह तेंदुलकर के सभी बल्लेबाजी रिकॉर्ड को तोड़ने के प्रबल दावेदार हैं।
जैक कैलिस, दक्षिण अफ्रीका के पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी

इस खेल के महान ऑलराउंडर में से एक जैक कैलिस ने कहा,'मेरा मानना है कि कोहली जहां तक आगे बढ़ना चाहे, वहां तक जा सकता है। वह विश्व स्तरीय खिलाड़ी है। उसके अंदर बेहतर करने की भूख है। वह कड़ी मेहनत करता है। इतने वर्षों में उसने यह साबित किया है। उसके बारे में सबसे अहम चीज यही है कि वह चीजों को सरल रखता है। लोग उसकी बल्लेबाजी का लुत्फ उठाते हैं।' कैलिस ने कहा कि अगर विराट फिट रहते हैं तो कोई भी रिकॉर्ड उनकी पहुंच से दूर नहीं है।

वर्ल्ड कप 2019 का अभी कोई दावेदार नहीं है


विश्व कप के  प्रबल दावेदार के  सवाल पर इस महान ऑलराउंडर  का मानना है कि फॉर्मेट को देखते हुए अभी तक किसी भी टीम को विश्व कप का प्रबल दावेदार बताना सम्भव नहीं है। कालिस दो बार आईपीएल खिताब जीत चुकी कोलकाता नाइट राईड्स टीम के कोच हैं।

इसे भी पढ़ें:- दिल्ली के कोच रिकी पो​टिंग का बड़ा बयान, बोले- टीम इस बार अच्छा करेगी

जैक कालिस ने कहा, “यह विश्व कप पूरी तरह खुला हुआ है। कोई एक टीम खिताब की दावेदार नहीं है। फॉर्मेट ने इस विश्व कप को रोचक बना दिया है।”




विश्व कप का आयोजन 30 मई से इंग्लैंड एवं वेल्स में होना है। इस साल सभी टीमें एक दूसरे के साथ मैच खेलेंगी और अंक तालिका में शीर्ष चार पर रहने वाली टीमें सेमीफाइनल में पहुंचेंगी। 1992 विश्व कप में यह फॉर्मेट पहली बार आजमाया गया था।

इसे भी पढ़ें:- सुपरकिंग्स का पुलवामा शहीदों को नमन, पहले मैच के सारे टिकटों की कमाई पीड़ित परिवारों के नाम

विश्व कप में दक्षिण अफ्रीका की सम्भावना के बारे में पूछे जाने पर कालिस ने कहा कि इस साल पहली बार उनके देश की टीम अंडरडॉग्स के तौर पर खेलेगी।
कालिस बोले, “हमें कभी भी खिताब का दावेदार नहीं माना गया। यह अच्छी बात है। इससे दबाव नहीं रहता है। इससे टीम को सही समय पर अच्छी क्रिकेट खेलने की आजादी मिलती है। वैसे दक्षिण अफ्रीकी टीम को कभी भी पूरी तरह खारिज नहीं किया जा सकता।”




पढ़ें, क्रिकेट और अन्य खेलों से संबंधित ताजा-तरीन खबरें AGMsports24 पर, सबसे पहले।
Powered by Blogger.