क्रिकेट रिकॉर्ड : टेस्ट क्रिकेट में 1 विकेट से जीतने का कारनामा करने वाली टीमें

अन्य खेलों से अलग क्रिकेट एक ऐसा खेल है जिसमें सबसे अधिक रिकॉर्ड बनते और टूटते हैं। लेकिन क्रिकेट में कुछ ऐसे रिकार्ड है जो कभी-कभार और संयोग से बनते हैं। वैसा ही एक रिकॉर्ड है अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में किसी टीम द्वारा विरोधी टीम के खिलाफ 1 विकेट से मैच जीतना। 142 साल के क्रिकेट इतिहास में अब तक मात्र 13 बार ही ऐसा हुआ है जब किसी देश ने एक विकेट से कोई मैच जीता है। 
श्रीलंका ने डरबन में खेले गए पहले टेस्ट मैच में दक्षिण अफ्रीका को रोमांचक मुकाबले में 1 विकेट से हराया

आइए नजर डालते हैं कब और किन देशों ने 1 विकेट से टेस्ट मैच जीता है :-

1. इंग्लैंड बनाम ऑस्ट्रेलिया, द ओवल, 1902

टेस्ट क्रिकेट में 1 विकेट सेे पहली बार जीतने का कारखाना इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आज से करीब 117 साल पहले 11 अगस्त 1902 को 'द ओवल' क्रिकेट ग्राउंड में किया। ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए पहली पारी में 324 रन बनाए। हग ट्रंबल ने 64 और मोंटी नोबेल ने 52 रन बनाए। हग ट्रंबल की घातक गेंदबाजी के आगे इंग्लैंड की पहली पारी 183 रनों में सिमट गई। उन्होंने 65 रन देकर 8 विकेट झटके। दूसरी पारी में इंग्लैंड ने बिल लोकवुड की बेहतरीन गेंदबाजी के दम पर ऑस्ट्रेलिया को दूसरी पारी में 121 रनों में ढेर कर दिया। इंग्लैंड को जीत के लिए 262 रनों का लक्ष्य मिला । गिलबर्ट जैसोप के विस्फोटक शतक और जॉर्ज हर्स्ट के नाबाद 58 के बल पर इंग्लैंड ने 9 विकेट खोकर मैच को जीत लिया। जैसोप ने 77 गेंदों में 17 चौके की मदद से 104 रन बना डाले थे। इंग्लैंड के लिए अंतिम जोड़ी जॉर्ज हर्स्ट और विलफ्रेड रोड्स (नाबाद 6) ने 10वें विकेट के लिए 15 रन जोड़कर अपनी टीम को 1 विकेट सेे ऐतिहासिक जीत दिलाई।

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड

ऑस्ट्रेलिया- पहली पारी- 324/10 (हग ट्रंबल 64,मोंटी नोबेल 52, जॉर्ज हर्स्ट 5/77, लैन ब्राउंड 2/39) और दूसरी पारी - 121/10( क्लेम हील 34, वारविक आर्मस्ट्रांग 21, बिल लोकवुड 45/5, लैन ब्राउंड 2/79)
इंग्लैंड- पहली पारी-183/10( जॉर्ज हर्स्ट 43, जॉनी टिल्डेस्ली 33, हग ट्रंबल 8/65, जैक सौंडर्स 2/79) और दूसरी पारी - 263/9(66.5)( गिलबर्ट जैसोप 104, जॉर्ज हर्स्ट 58*, हग ट्रंबल 4/108, जैक सौंडर्स 4/104)

2. दक्षिण अफ्रीका बनाम इंग्लैंड,जोहान्सबर्ग, 1906

दक्षिण अफ्रीका ने अपनी सरजमीं पर इंग्लैंड को 1 विकेट से हराकर दूसरी बार टेस्ट क्रिकेट में यह कारनामा किया। यह मैच 2 जनवरी 1906 को जोहांसबर्ग में खेला गया था। दक्षिण अफ्रीका की युवा और अनुभवहीन टीम ने इंग्लैंड जैसी दिग्गज टीम को हराकर दुनिया को आश्चर्य में डाल दिया था। इस मैच में दक्षिण अफ्रीका के 6 खिलाड़ियों ने डेब्यू किया था। इंग्लैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पहली पारी में 184 रन बनाए। वॉल्टर लीस के घातक गेंदबाजी के सामने मेजबान दक्षिण अफ्रीका की पहली पारी 91 रनों में ऑल आउट हो गई। दूसरी पारी में भी इंग्लैंड बड़ा स्कोर खड़ा कर नहीं पाई और 190 रनों में सिमट गई। सर पालम वॉर्नर ने सर्वाधिक 51 रन बनाए। दक्षिण अफ्रीका के लिए ओवरी फॉल्कनर ने सबसे ज्यादा 4 विकेट चटकाए। 283 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी दक्षिण अफ्रीका की शुरुआत बेहद खराब रही और उसने 6 विकेट मात्र 105 रन खो दिए।उसके बाद अपना पहला मैच खेल रहे गार्डन व्हाइट ने 8वें नम्बर के बल्लेबाज  डैव नर्स के साथ मिलकर  टीम को संभाला और सातवें विकेट के लिए 121 रनों की बेहतरीन साझेदारी निभाई। गार्डन व्हाइट दुर्भाग्यशाली रहे और पहले मैच में शतक से चूक गए। व्हाइट 83 रन बनाकर अल्बर्ट रेल्फ की गेंद पर बोल्ड आउट हुए। इस जोड़ी के टूटते ही इंग्लैंड ने मैच में में शानदार वापसी की और दो विकेट जल्दी झटककर दक्षिण अफ्रीका को हार की कगार पर पहुंचा दिया था। अनुभवहीन दक्षिण अफ्रीका का स्कोर 9 विकेट पर 239 रन हो गया और अब भी उसे जीत के लिए 44 रनों की दरकार थी।दक्षिण अफ्रीका के लिए डैव नर्स और पर्सी शेरवॉल जो अपना डेब्यू मैच खेल रहे थे, बल्लेबाजी कर रहे थे। इन दोनों बल्लेबाजों ने इंग्लैंड के मजबूत गेंदबाजी आक्रमण की धज्जियां उड़ाते हुए अपनी टीम को 1 विकेट से शानदार जीत दिलाई। डैव नर्स ने नाबाद 93 वहीं पर्सी शेरवॉल ने नाबाद 22 रन बनाए।

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड

इंग्लैंड -  पहली पारी - 184/10 ( जैक क्रोफोर्ड 44, टेडी विनयार्ड 29, रेगी श्वार्ज 3/72, गार्डन व्हाइट 2/15 और दूसरी पारी- 190/10( सर पालम वॉर्नर 51,जैक क्रोफोर्ड  43,ओवरी फॉल्कनर 4/36, डैव नर्स 2/7)
दक्षिण अफ्रीका - पहली पारी- 91/10( टिप स्नूक 19, डैव नर्स 28*, वॉल्टर लीस 5/34, कोलिन ब्लिथ 3/33) और दूसरी पारी- 287/9(112.5)(  डैव नर्स 93*, गार्डन व्हाइट 83,वॉल्टर लीस 3/74, अल्बर्ट रेल्फ 2/47)





3. ऑस्ट्रेलिया बनाम इंग्लैंड, मेलबॉर्न ,1908

इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया को उसी की सरजमीं में में 1908 में 1 विकेट से हराया। यह मैच मेलबर्न में 1 जनवरी से खेला गया था। ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 266 रन बनाया। इंग्लैंड ने केनेथ हचिंग्स  के शानदार 126 रन की बदौलत 382 रन बनाया और पहली पारी में 116 रन की महत्वपूर्ण बढ़त हासिल किया। ऑस्ट्रेलिया ने दूसरी पारी में बेहतरीन बल्लेबाजी किया और 397 रन बनाकर इंग्लैंड को चौथी पारी में जीत के लिए 281 रन का मुश्किल लक्ष्य दिया। दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया के लिए 5 बल्लेबाजों ने अर्धशतक ठोका। मोंटी नोबेल, विक्टर ट्रंपर, वारविक आर्मस्ट्रांग, चार्ल्स मेकार्टनी और सैमी कार्टर ने क्रमशः 64, 63, 77, 54 और 53 रन बनाए। इंग्लैंड ने चौथी पारी में 281 रन के लक्ष्य को कप्तान फ्रेडरिक फेन के 50, केनेथ हचिंग्स के 39,लैन ब्राउंड के 30 और सिडनी बर्निश के नाबाद 38 के बदौलत 9 विकेट खोकर मैच को अपने कब्जे में कर लिया। 
इंग्लैंड टीम एक समय  243 रन पर 9 विकेट खोकर हार की कगार पर पहुंच गया था। लेकिन सिडनी बर्निश (नाबाद 38) और आर्थर फिल्डर ( नाबाद 18) ने 10वें विकेट के लिए 39 रन जोड़कर टीम को 1 विकेट से शानदार जीत दिलाई। 
यह एक ऐसा टेस्ट मैच था जो लगातार और निर्धारित समय में नहीं खेला गया। यह टेस्ट मैच 1,2,3,4,6,7 जनवरी 1908 तक खेला गया।

क्रिकेट के दिलचस्प रिकॉर्ड : जानें, किस बल्लेबाज ने बिना शतक ठोके वनडे में 5000 से अधिक रन बनाए है

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड

ऑस्ट्रेलिया- पहली पारी-266/10( मोंटी नोबेल 61, विक्टर ट्रंपर 49, जैक क्रॉफर्ड 79/5, आर्थर फिल्डर 79/2) और दूसरी पारी- 397/10( वारविक आर्मस्ट्रांग 77, मोंटी नोबेल 64, सिडनी बर्निश 72/5, जैक क्रॉफर्ड 125/3)
इंग्लैंड- पहली पारी-382/10( केनेथ हचिंग्स 126, सर जैक हॉब्स 83, टिब्बी कोटर 142/5, जैक सौंडर्स 100/3) और दूसरी पारी - 282/9 ( फ्रेडरिक फेन 50, सिडनी बर्निश 38*, वारविक आर्मस्ट्रांग 53/3, मोंटी नोबेल 41/2)

4. दक्षिण अफ्रीका बनाम इंग्लैंड, केपटाउन, 1923

इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका को 1 जनवरी 1923 को केपटाउन में खेले गए 5 मैचों की टेस्ट सीरीज के दूसरे मैच में 1 विकेट से पराजित कर सीरीज को 1- 1 से बराबर किया था। यह एक रोमांचक और लो स्कोरिंग टेस्ट मैच था।
पर्सी फेंडर के घातक गेंदबाजी के सामने दक्षिण अफ्रीका की पहली पारी 113 रन में ढेर हो गई। इंग्लैंड भी पहली पारी में ज्यादा बड़ा स्कोर खड़ा नहीं कर पाया और 183 रन बनाकर ऑलआउट हो गई। लेकिन पहली पारी में 70 रन की महत्वपूर्ण बढ़त हासिल कर ली। इंग्लैंड की ओर से आर्थर कैर ने सर्वाधिक 42 रन बनाए । वहीं, दक्षिण अफ्रीका के लिए जिमी ब्लैंकेनबर्ग ने 5 और आल्फ हॉल ने 4 विकेट चटकाए। दूसरी पारी में दक्षिण अफ्रीका ने बॉब कैटरॉल  के 76 और कप्तान हर्बी टेलर के 68 रन के पारी के बदौलत 242 रन बनाया और इंग्लैंड को चौथी पारी में जीत के लिए 172 रन का लक्ष्य दिया। इस छोटे से लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड टीम  की शुरुआत बेहद खराब रही और उसने 86 रन पर अपने 6 बल्लेबाजों को खो दिया। उसके बाद इंग्लैंड के कप्तान फ्रैंक मान(45) ने वल्नेंस ज्यूप(38) के साथ मिलकर सातवें विकेट के लिए 68 रन जोड़ें और टीम को जीत के काफी करीब पहुंचा दिया। लेकिन मैच में अचानक रोमांचक मोड़ आ  गया और इंग्लैंड ने 12 रन पर तीन विकेट गंवा बैठा। अब इंग्लैंड को जीत के लिए 5 रन की जरूरत थी जबकि अंतिम जोड़ी एलेक्स कैनेडी और जॉर्ज मैकाले क्रीज पर था।  इन दोनों ने अंतिम विकेट के  लिए 5 रन जोड़कर इंग्लैंड को 1 विकेट से शानदार जीत दिलाई और इसी के साथ इंग्लैंड ने तीसरी बार टेस्ट क्रिकेट में 1 विकेट से जीतने का कारनामा किया।

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड

दक्षिण अफ्रीका- पहली पारी- 113/10(सिरिल फ्रेंकोइस 28, डेव नर्स 16, पर्सी फेंडर 29/4, जॉर्ज मैकाले 19/2) और दूसरी पारी - 242/10( बॉब कैटरॉल 76, हर्बी टेलर 68, जॉर्ज मैकाले 68/5, एलेक्स कैनेडी 58/4)
इंग्लैंड- पहली पारी- 183/10( आर्थर कैर 42, जैक रस्सेल 39, जिमी ब्लैंकेनबर्ग 61/5, आल्फ हॉल 49/4) और दूसरी पारी- 173/9( फ्रैंक मान 45, वल्नेंस ज्यूप 48, आल्फ हॉल 63/7, जिमी ब्लैंकेनबर्ग 61/1)

5.ऑस्ट्रेलिया बनाम वेस्टइंडीज,मेलबर्न,1951

ऑस्ट्रेलिया ने 31 दिसंबर 1951 को वेस्टइंडीज के खिलाफ मेलबर्न में खेले गए चौथे टेस्ट मैच में पहली बार 1 विकेट से जीतने का कारनामा किया। इस मैच को जीतने के साथ ही ऑस्ट्रेलिया ने 5 मैचों की टेस्ट सीरीज को अपने नाम कर लिया और सीरीज में 3-1 से बढ़त बना ली।
वेस्टइंडीज के पहली पारी के 272 रन के जवाब में ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी 216 रन में सिमट गई और  56 रन से पिछड़ गई। दूसरी पारी में कंगारू टीम ने वेस्टइंडीज को 203 रन में समेटकर 260 रन के लक्ष्य को 9 विकेट खोकर हासिल कर लिया। ऑस्ट्रेलिया टीम दूसरी पारी में 222 रन पर 9 विकेट गंवाकर हार की स्थिति में पहुंच गई थी लेकिन डग रिंग ( नाबाद 32)  और बिल जॉनसन (नाबाद 7) ने 10वें विकेट के लिए 38 रन जोड़कर अपने टीम को 1 विकेट से यादगार जीत दिलाई।

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड

वेस्टइंडीज- पहली पारी- 272/10( सर फ्रैंक वॉरेल 108, गेरी गोमेज़ 37, कीथ मिलर 60/5, बिल जॉनसन 59/2) और दूसरी पारी -202/10( जेफरी स्टॉल्मेयर 54, गेरी गोमेज 52, बिल जॉनसन 51/3, कीथ मिलर 49/2)
ऑस्ट्रेलिया- पहली पारी-216/10( नील हार्वे 83, कीथ मिलर 47, जॉन ट्रिम 34/5,सन्नी रामाधीन 63/2) और दूसरी पारी- 260/9 ( लिंडसे हैसेट 102, नील हार्वे 33, वेलेंटाइंस 88/5, सन्नी रामाधीन 93/3)

6. न्यूजीलैंड बनाम वेस्टइंडीज,डुनेडिन ,1980

मेजबान न्यूजीलैंड ने  वेस्टइंडीज को हराकर  टेस्ट क्रिकेट में पहली बार 1 विकेट से जीतने का कारनामा 1980 में  किया । इस मैच में सर रिचर्ड हेडली ने गेंद और बल्ले दोनों से कमाल का प्रदर्शन किया  था । यह मैच 8 फरवरी को डुनेडिन में खेला गया था और यह एक लो स्कोरिंग टेस्ट मैच था।
सर रिचर्ड हेडली के घातक गेंदबाजी के आगे वेस्टइंडीज की पहली पारी 140 रन में ढेर हो गई। उन्होंने 34 रन देकर पांच वेस्टइंडीज बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा। डेसमंड हेंस ने सर्वाधिक 55 रन बनाए। ब्रूस एडगर के 65 और हेडली के 51 रन के दम पर न्यूजीलैंड ने पहली पारी में 249 रन बनाए और 109 रन की उपयोगी बढ़त हासिल की। वेस्टइंडीज टीम दूसरी पारी में भी रिचर्ड हेडली के कातिलाना गेंदबाजी के आगे टिक नहीं सकी और 212 रन बनाकर ऑल आउट हो गई। हेडली ने 68 रन देकर 6 विकेट चटकाए। उन्होंने मैच में कुल 11 विकेट झटके। दूसरी पारी में भी  डेसमंड हेंस एकमात्र बल्लेबाज रहे जिन्होंने  रिचर्ड हेडली की  गेंदों का डटकर सामना किया ।उन्होंने  लाजवाब बल्लेबाजी करते हुए 105 रन बनाए। वो दोनों पारियों में अंतिम विकेट के रूप में आउट हुए। माइकल होल्डिंग, जोएल गार्नर और कॉलिन क्रॉफ्ट ने 104 रन के छोटे से लक्ष्य को पाने के लिए मेजबान न्यूजीलैंड को पसीने छुड़ा दिए। वेस्टइंडीज के इन तिकड़ियों ने एक समय 100 रन पर 9 विकेट गिराकर कीवी टीम को हार की कगार पर पहुंचा दिया था। लेकिन अंतिम जोड़ी गैरी ट्रॉप (7*) और स्टीफन बूक (2*) ने 4 रन टीम को 1 विकेट से ऐतिहासिक जीत दिलाई।
न्यूजीलैंड की इस जीत में सर रिचर्ड हेडली का महत्वपूर्ण योगदान रहा। उन्होंने मैच में 11 विकेट लेने के साथ पहली पारी में 51 और दूसरी पारी में 17  रन भी बनाए। हेडली ने  मैच में एक और उपलब्धि अपने नाम की थी। वो न्यूजीलैंड के लिए सर्वाधिक विकेट (117 विकेट,उस समय)  लेने का कारनामा भी किया।

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड

वेस्टइंडीज- पहली पारी- 140/10 ( डेसमंड हेंस 55, क्लाइव लॉयड 24, सर रिचर्ड हेडली 34/5, गैरी ट्रॉप 26/2) और दूसरी पारी - 212/10 ( डेसमंड हेंस  105, कोलिज़ किंग 41, रिचर्ड हेडली 68/6, गैरी ट्रॉप 57/3)
न्यूजीलैंड- पहली पारी- 249/10 ( ब्रूस एडगर 65, हेडली 51, कॉलिन क्रॉफ्ट 64/4, माइकल होल्डिंग 50/2) और दूसरी पारी- 104/9 ( लांस कैर्न्स 19, हेडली 17, जोएल गार्नर 36/4, होल्डिंग 24/3)





7. पाकिस्तान बनाम ऑस्ट्रेलिया ,कराची, 1994

पाकिस्तान ने 28 सितंबर 1994 को कराची में खेले गए पहले टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया को 1 विकेट से हराकर ऐतिहासिक जीत हासिल की थी। पहली बार किसी टीम ने अंतिम विकेट के लिए 50 से अधिक रन की साझेदारी देकर मैच जीता था। पाकिस्तान को चौथी पारी में जीत के लिए 314 रन का लक्ष्य मिला। लेकिन शेन वार्न के  घातक गेंदबाजी के  आगे उसके 9 विकेट 258 रन पर गिर गए और उसे अभी भी जीतने के लिए 56 रन की जरूरत थी जबकि अंतिम जोड़ी क्रीज पर था।  युवा बल्लेबाज इंजमाम उल हक (58*,89 गेंद) ने मुस्ताक अहमद (20*, 30 गेंद) के साथ मिलकर दसवें विकेट के लिए 57 रन जोड़कर टीम को 1 विकेट से ऐतिहासिक जीत दिलाई।
ऑस्ट्रेलिया ने माइकल बेवन(82), स्टीव वॉ  (73) और इयान हिली (57) के अर्धशतक के बदौलत पहली पारी में 337 रन बनाए। पाकिस्तान को पहली पारी में 256 रन में समेटकर ऑस्ट्रेलिया ने 81 रन की महत्वपूर्ण बढ़त हासिल कर ली। ऑस्ट्रेलिया टीम दूसरी पारी में वसीम अकरम और वकार यूनुस के स्विंग गेंदों के आगे ठहर नहीं पाए और पूरी टीम 232 रन में ढेर हो गई। पाकिस्तान को दूसरी पारी में जीत के लिए 314 रन का लक्ष्य मिला जिसे 9 विकेट खोकर हासिल कर लिया।

क्रिकेट के दिलचस्प रिकॉर्ड : जानें,वनडे में 1 से 11 तक सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों के नाम 

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड

ऑस्ट्रेलिया- पहली पारी- 337/10 ( माइकल बेवन 82, स्टीव वॉ 73, वसीम अकरम 75/3, वकार यूनुस 75/3, मुस्ताक अहमद 97/3 ) और दूसरी पारी - 232/10 ( डेविड बून 114, मार्क वॉ 61, वसीम अकरम  63/5, वकार यूनुस 69/4)
पाकिस्तान- पहली पारी-256/10( सईद अनवर 85, वसीम अकरम 39, शेन वार्न  61/3, जो एंजेल 54/3) और दूसरी पारी- 315/9 ( सईद अनवर 77, इंजमाम उल हक नाबाद 58, शेन वार्न 89/5, जो एंजेल 92/2)

8. वेस्टइंडीज बनाम ऑस्ट्रेलिया, ब्रिजडाउन, 1999

टेस्ट क्रिकेट में आठवीं बार 1 विकेट से जीतने का रिकॉर्ड वेस्टइंडीज ने ऑस्ट्रेलिया को हराकर किया।यह मैच 26 मार्च 1999 को ब्रिजटाउन में खेला गया। वेस्टइंडीज दौरे पर गई ऑस्ट्रेलिया टीम का यह तीसरा मैच था और वेस्टइंडीज ने 1 विकेट से शिकस्त देकर सीरीज में 2-1 की बढ़त बना ली थी।
वेस्टइंडीज को चौथी पारी में जीत के लिए 307 रन का लक्ष्य मिला जिसे ब्रायन लारा ने अपने बलबूते टीम को 1 विकेट से यादगार जीत दिलाई। उन्होंने 256 गेंदों में 19 चौके और 1 छक्के की मदद से नाबाद 153 रन बनाए। लारा के अतिरिक्त कोई भी बल्लेबाज 40 का आंकड़ा पार नहीं कर पाया। जिमी एडम्स ने 38, एड्रियन ग्रिफ़िथ ने 35 और शेरविन कैम्पबेल ने 33 रन का योगदान दिया। ऑस्ट्रेलिया के लिए ग्लेन मैग्राथ ने दूसरी पारी में 92 रन देकर पांच विकेट लिए।
ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में स्टीव वॉ के 199 और रिकी पोंटिंग के 104 रन के बेहतरीन पारी के बल पर 490 रन का बड़ा स्कोर खड़ा किया।  मैकग्राथ (4 विकेट) और गिलेस्पी (3 विकेट)  के बेहतरीन गेंदबाजी के आगे वेस्टइंडीज टीम पहली पारी में 329 रन ही बना सकी और 161 रन से पिछड़ गई। वेस्टइंडीज की ओर से पहली पारी में कैम्पबेल ने शानदार 105 रन बनाए। ऑस्ट्रेलिया टीम दूसरी पारी में कर्टनी वॉल्श के रफ्तार के आगे 146 रन में ढेर हो गयी और इस तरह वेस्टइंडीज को चौथी पारी में जीत के लिए 307 रन का लक्ष्य मिला जिसे लारा के नाबाद शतक के बदौलत 9 विकेट खोकर हासिल कर लिया।

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड

ऑस्ट्रेलिया- पहली पारी - 490/10 ( स्टीव वॉ 199, रिकी पोंटिंग 104, नेहेमियाह पैरी 102/3, कार्ल हूपर 50/2) और दूसरी पारी- 146/10( शेन वार्न 32, माइकल स्लेटर 26, कर्टनी वॉल्श  39/5, पेड्रो कोलिंस 31/2)
वेस्टइंडीजपहली पारी - 329/10 ( शेरविन कैम्पबेल 105, रिडले जैकब्स 68, ग्लेन मैकग्राथ 128/4, जैसन गिलेस्पी 48/3 ) और दूसरी पारी- 311/9 ( ब्रायन लारा नाबाद 153, जिमी 38, मैकग्राथ 92/5, गिलेस्पी 62/3)

9. वेस्टइंडीज बनाम पाकिस्तान, सेंट जॉन्स,एंटीगुआ,2000

वेस्टइंडीज दौरे पर गई पाकिस्तान टीम को तीसरे और अंतिम टेस्ट मैच में वेस्टइंडीज ने 1 विकेट से हराकर सीरीज को 1-0 से अपने कब्जे में कर लिया था। यह मैच 25 मार्च 2000 को सेंट जॉन्स, एंटीगुआ में खेला गया।
मोहम्मद यूसुफ के नाबाद 103 के दम पर पाकिस्तान ने पहली पारी में 269 रन बनाए। जवाब में वेस्टइंडीज टीम शिवनारायण चंद्रपाल (89) और कप्तान जिमी एडम्स (55) के बेहतरीन अर्धशतक के दम पर 273 रन बनाया और चार रन की उपयोगी बढ़त हासिल की। दूसरी पारी में रेऑन किंग और सर कर्टली एंब्रोज के घातक गेंदबाजी के आगे पाकिस्तान की पूरी टीम 219 रन में ढेर हो गई।अब वेस्टइंडीज को चौथी पारी में जीत के लिए 215 रन का लक्ष्य मिला। वसीम अकरम के रिवर्स स्विंग के आगे वेस्टइंडीज के बल्लेबाजों ने घुटने टेक दिए और 197 रन पर 9 विकेट गंवा बैठे । लेकिन कप्तान जिमी एडम्स ( 48 रन, 212 गेंद ) ने कर्टनी वाल्श ( नाबाद 4)  के साथ मिलकर अंतिम विकेट के लिए 19 रन जोड़कर टीम को 1 विकेट से ऐतिहासिक जीत दिलाई।
वेस्टइंडीज टीम ने टेस्ट क्रिकेट में दूसरी बार 1 विकेट से जीतने का कारनामा किया। इससे पहले वेस्टइंडीज ने ऑस्ट्रेलिया को 1999 में 1 विकेट से पराजित किया था।

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड

पाकिस्तान - पहली पारी- 269/10(मोहम्मद युसूफ नाबाद 103, इंजमाम उल हक 55, कर्टनी वाल्श 83/5, एंब्रोज 30/2) और दूसरी पारी- 216/10 (इंजमाम 68, युसूफ 42, रेऑन किंग 48/4, एंब्रोज 39/3)
वेस्टइंडीज- 273/10 ( चंद्रपाल 89, जिमी 55, वसीम अकरम 61/6, मुस्ताक अहमद 68/2) और दूसरी पारी- 219/9 ( वॉवेल हिन्डस 63, जिमी 48*, अकरम 49/5, अब्दुल रज्जाक 14/1)

10. पाकिस्तान बनाम बांग्लादेश, मुल्तान, 2003

बांग्लादेश की युवा और अनुभवहीन टीम ने 2003 में पाकिस्तान का दौरा किया। तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के पहले दो टेस्ट मैचों में बांग्लादेश को बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा।तीसरे और अंतिम टेस्ट मैच में बांग्लादेश के खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया और जीत के काफी करीब पहुंच गया था। लेकिन इंजमाम उल हक के चौथी पारी में लगाए गए संघर्षपूर्ण शतक के कारण बांग्लादेश पहली बार टेस्ट मैच जीतने से वंचित रह गया। यह मैच 3 सितंबर 2003 को मुल्तान में खेला गया था।




बांग्लादेश ने हबीबुल बशर  के 72 और राजेन सालेह के 49 रन के बदौलत पहली पारी में 281 रन बनाया। पाकिस्तान टीम मोहम्मद रफीक (5  विकेट)  और खालिद महमूद( 4 विकेट) की घातक गेंदबाजी के आगे पहली पारी में 175 रन में ढेर हो गई और 106 रन से पिछड़ गई। पाकिस्तानी गेंदबाजों ने दूसरी पारी में शानदार वापसी करते हुए बांग्लादेश को 154 रन  में समेट दिया। अब पाकिस्तान को मैच जीतने के के लिए 260 रन का छोटा सा लक्ष्य बनाना था। लेकिन दूसरी पारी में भी बांग्लादेश के खिलाड़ियों ने बेहतरीन गेंदबाजी और क्षेत्ररक्षण का प्रदर्शन  करते हुए 257 रन पर 9 विकेट झटककर पाकिस्तान को हार की कगार पर पहुंचा दिया था लेकिन इंजमाम उल हक के  नाबाद शतकीय पारी (138*, 232 गेंद)  ने बांग्लादेश के हाथ से जीता हुआ मैच छीन लिया और बांग्लादेश पहली बार टेस्ट मैच जीतने से दूर रह गया। जीत के इतने करीब पहुंच जाने के बाद हार जाने से स्टेडियम में बैठे बांग्लादेशी समर्थकों के साथ-साथ बांग्लादेश के खिलाड़ियों के आंख से आंसू टपकने लगे। यह मैच क्रिकेट प्रेमियों के मस्तिष्क में हमेशा याद रहेगा क्योंकि बांग्लादेश की युवा टीम ने पाकिस्तान जैसी दिग्गज टीम को उसी के घर में हार की कगार पर पहुंचा दिया था।

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड

बांग्लादेश- पहली पारी- 281/10 ( हबीबुल 72, राजेन सालेह 49, उमर गुल 86/4, शब्बीर अहमद 70/3) और दूसरी पारी-154/10 ( राजेन सालेह 42,खालिद महमूद 28, गुल 58/4, शब्बीर अहमद 68/4)
पाकिस्तान- पहली पारी- 175/10( यासिर हमीद 39 यूनुस खान 34, मोहम्मद रफीक 36/5, महमूद 37/4) और दूसरी पारी- 262/9 ( इंजमाम उल हक नाबाद 138, सलमान बट्ट 37, महमूद 68/3, मंजूरल इस्लाम 60/2)

11. श्रीलंका बनाम दक्षिण अफ्रीका, कोलंबो 2006

श्रीलंका ने दक्षिण अफ्रीका को 2006 में कोलंबो में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में 1 विकेट से हराया।इस टेस्ट मैच को जीतने के साथ श्रीलंका ने दो मैचों की सीरीज को क्लीनस्वीप कर लिया था। यह मैच 4 अगस्त 2006 को खेला गया था। यह एक हाई स्कोरिंग मैच था।
दक्षिण अफ्रीका ने कप्तान एश्वेल प्रिंस(86) ,एबी डिविलियर्स(95) और शॉन पोलक(57*) के अर्धशतक के बदौलत 361 रन बनाया। जवाब में श्रीलंका ने निचले क्रम के बल्लेबाजों के दम पर पहली पारी में 321 रन बनाया। चमारा कपूगेद्रा, परवीज़ माहरूफ ,प्रसन्ना जयवर्धने और चमिंडा वास ने क्रमशः 63, 56, 42 और 64 रन का योगदान दिया। दक्षिण अफ्रीका ने दूसरी पारी में 311 रन बनाकर श्रीलंका को चौथी पारी में जीत के लिए 352 रन का मुश्किल लक्ष्य दिया जिसे श्रीलंका ने महिला जयवर्धने के 123 और सनत जयसूर्या के 73 रन के बदौलत 9 विकेट खोकर हासिल कर लिया।
दूसरी पारी में जयसूर्या के तेजतर्रार अर्धशतक ( 73 रन, 74 गेंद,9×4, 3×6)  और महिला जयवर्धने के बेहतरीन शतक के कारण श्रीलंका टीम की स्थिति बहुत अच्छी थी और एक समय 6 विकेट पर 341 रन था और ऐसा लग रहा था कि श्रीलंका आसानी से यह मैच जीत जाएगा। लेकिन तभी मैच में रोमांच आ गया और दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों ने 9 रन के भीतर श्रीलंका के 3 विकेट झटक लिए। अब श्रीलंका का स्कोर 9 विकेट पर 350 रन हो गया और उसे जीतने के लिए 2 रन की जरूरत थी। जबकि बल्लेबाजी लसिथ मलिंगा और महरुफ कर रहे थे। महरुफ ने निक्की बोजे की गेंद पर सिंगल लेकर मैच को बराबरी पर ला दिया और मलिंगा ने बोजे की अगली गेंद पर लॉगऑन में तेजी से 1 रन चुराकर अपनी टीम को 1 विकेट से ऐतिहासिक जीत दिलाई। पहली बार श्रीलंकाई टीम ने टेस्ट क्रिकेट इतिहास में 1 विकेट से जीतने का कारनामा किया।

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड

दक्षिण अफ्रीका- पहली पारी- 361/10( प्रिंस 86, डिविलियर्स 95, मुरलीधरन 128/5, मलिंगा 81/3) और दूसरी पारी-311/10( हर्शल गिब्स 92 मार्क बाउचर 65, मुरलीधरन 97/7, महरुफ 53/1)
श्रीलंका-पहली पारी- 321/10( वास 64, कपूगेद्रा 63, डेल स्टेन 82/5, मखाया नतिनि 84/4) और  दूसरी पारी-352/9( महिला जयवर्धन 128, जयसूर्या 73, बोजे 111/4, एंड्रू हॉल 75/5)

12. भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया,मोहाली, 2010

भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 1 अक्टूबर 2010 को मोहाली में खेले गए पहले टेस्ट मैच में वीवीएस लक्ष्मण और इशांत शर्मा के बेहतरीन पारी की बदौलत रोमांचक मुकाबले में 1 विकेट से शिकस्त दी थी। ऑस्ट्रेलिया ने चौथी पारी में भारत को जीत के लिए 216 रन का लक्ष्य दिया था। इस छोटे से लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत बेहद खराब रही और 124 रन पर 8 विकेट खोकर हार की दहलीज पर पहुंच गया था। ऐसे समय में वीवीएस लक्ष्मण ने 10वें नंबर के बल्लेबाज इशांत शर्मा (31रन,92 गेंद, 5×4)  के साथ मिलकर 9वें विकेट के लिए 86 रनों की महत्वपूर्ण साझेदारी दिया और भारत को मैच में वापसी कराई। ईशांत के आउट होने के बाद लक्ष्मण ने प्रज्ञान ओझा(5*, 10 गेंद) के साथ 10वें विकेट के लिए 11 रन जोड़कर भारत को पहली बार टेस्ट क्रिकेट में 1 विकेट से ऐतिहासिक जीत दिलाई। लक्ष्मण ने 79 गेंदों में 8 चौके की मदद से आतिशी 73 रन बनाए ।

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड

ऑस्ट्रेलिया- पहली पारी- 428/10( शेन वाटसन 126, टिम पैन 92, जाहिर खान 94/5, हरभजन सिंह 114/3) और दूसरी पारी-192/10 ( वाटसन 57, साइमन कैटिच 37, जाहिर खान 43/3, इशांत शर्मा 34/3)
भारत- पहली पारी- 405/10 ( सचिन तेंदुलकर 98 सुरेश रैना 86, मिशेल जॉनसन 64/5,  डग बॉलिंगर 49/2) और दूसरी पारी- 216/9 ( लक्ष्मण 73*, तेंदुलकर 38, बेन हिलफेनहास 57/4, बॉलिंगर 32/3)

13. दक्षिण अफ्रीका बनाम श्रीलंका,डरबन, 2019

2019 में दक्षिण अफ्रीका दौरे पर गई श्रीलंका की युवा और अनुभवहीन टीम ने पहले टेस्ट मैच में बेहद ही रोमांचक मुकाबले में 1 विकेट से हराकर क्रिकेट जगत में हड़कंप मचा दिया। टेस्ट क्रिकेट इतिहास में 1 विकेट सेे जीत का यह सबसे बेहतरीन और रोमांचक मैच था। यह मैच 13 फरवरी 2019 को डरबन में खेला गया था। श्रीलंका के युवा बल्लेबाज कुशल परेरा ने अपने दम पर टीम को 1 विकेट से ऐतिहासिक जीत दिलाई। कुशल परेरा ने विश्वा फर्नांडो के साथ मिलकर 10वें  विकेट के लिए 78 रन जोड़कर श्रीलंका को 1 विकेट से मैच जिताया। इन दोनों बल्लेबाजों ने दसवें विकेट के लिए अब तक की सबसे बड़ी साझेदारी ( एक विकेट के जीत में) निभाई।यह टेस्ट क्रिकेट इतिहास का सबसे बेहतरीन जीत ( 1 विकेट में) माना जाएगा क्योंकि श्रीलंका ने दक्षिण अफ्रीका को उसी की घर में दुनिया के बेहतरीन गेंदबाजी आक्रमण के सामने हराया था। दक्षिण अफ्रीका के पास डेल स्टेन ,कैगिसो रबाडा और वेरनॉन फिलेंडर जैसे दिग्गज और अनुभवी गेंदबाज थे जबकि श्रीलंका के आधे से अधिक खिलाड़ी युवा और अनुभवहीन थे। कुशल परेरा का यह 15वां वहीं, विश्वा फर्नांडो का का चौथा मैच था।
दक्षिण अफ्रीका ने श्रीलंका को जीत के लिए 304 रन का लक्ष्य दिया। श्रीलंका टीम 226 रन पर 9 विकेट खोकर हार की दहलीज पर पहुंच गया था। ऐसे समय में कुशल परेरा (153*, 200 गेंद,12×4, 5×6) ने विश्वा फर्नांडो( 6*, 27 गेंद) के साथ मिलकर दसवें विकेट के लिए 95 गेंदों में 78 रन जोड़े और टीम को 1 विकेट से से यादगार और ऐतिहासिक जीत दिलाई।

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड

दक्षिण अफ्रीका - पहली पारी - 235/10 (क्विंटन डी कॉक 80, टेंबा बवुमा 47 , विश्वा फर्नांडो 62/4, कासुन रजिथा 68/3 ) और दूसरी पारी - 259/10 ( फाफ डू प्लेसिस 90, क्विंटन डी कॉक 55, लसिथ इम्बुलडेनिया 66/5, विश्वा फर्नांडो 71/4)
श्रीलंका - पहली पारी 191/10( कुशल परेरा 51, दिमुथ करुणारत्ने 30, डेल स्टेन 48/4, वेरनॉन फिलेंडर 32/2) और  दूसरी पारी - 304/9(85.3) ( कुशल परेरा 153*, धनंजय डी सिल्वा 48, केशव महाराज 71/3, डुएने ओलिवियर 35/2)।

Powered by Blogger.