Srilanka vs England 5th ODI Highlights,श्रीलंका ने इंग्लैंड को वनडे इतिहास की सबसे बड़ी मात दी

श्रीलंका ने मंगलवार को आखिरी वनडे मैच में इंग्लैंड को 219 रनों के बड़े अंतर से हराकर पांच मैचों की वनडे सीरीज में जीत के साथ अंत किया। इंग्लैंड तीन मैच जीतकर पहले ही सीरीज को अपने नाम कर लिया था। श्रीलंका और इंग्लैंड के बीच खेले गए पांच वनडे मैचों की सीरीज का पहला मैच बारिश के कारण रद्द हो गया था, इस तरह इंग्लैंड ने सीरीज को 3 - 1 से अपने नाम किया। इंग्लैंड को वनडे क्रिकेट इतिहास में पहली बार किसी टीम ने 200 रनों के बड़े अंतर से मात दी।
akila dhananjaya
 अकिला धनंजय
श्रीलंका ने अपने चोटी के शीर्ष 4 बल्लेबाजों निरोशन डिकवेला, सदीरा समरविक्रमा, दिनेश चंदिमल और कुसल मेंडिस के शानदार अर्धशतक के बदौलत 366 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया,जवाब में इंग्लैंड की टीम अकीला धनंजय और दुश्मंथा चमीरा के खतरनाक गेंदबाजी के आगे टिक नहीं सके और इंग्लैंड ने अपने 9 9 विकेट मात्र 132 रनों पर खो दिया तभी बारिश के कारण मैच स्कोर रोकना पड़ा और मैच का परिणाम डकवर्थ लुईस पद्धति के अनुसार निकाला गया। श्रीलंका ने इंग्लैंड को डकवर्थ लुईस पद्धति के नियम के अनुसार 219 रनों  से पराजित किया। वनडे क्रिकेट इतिहास में इंग्लैंड टीम की रनों के हिसाब से यह सबसे बड़ी हार है।
इंग्लैंड ने इस मैच में अपने नियमित कप्तान इयान मोर्गन को आराम दिया और विकेटकीपर बल्लेबाज जोस बटलर को टीम की कमान सौंपा गया। श्रीलंका के कप्तान दिनेश चांदमल ने  टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया जिसे श्रीलंका के दोनों सलामी बल्लेबाज निरोशन डिक्वेला और सदीरा समराविक्रमा ने सही साबित करते हुए पहले विकेट के लिए शतकीय साझेदारी दिया। इन दोनों सलामी बल्लेबाजों ने 14 ओवर में ही टीम का स्कोर 100 के पार पहुंचा दिया।
23 वर्षीय युवा बल्लेबाज सदीरा समराविक्रमा जो अपना छठा वनडे मैच खेल रहे थे, शानदार बल्लेबाजी करते हुए पहला ODI अर्धशतक पूरा किया। श्रीलंका ने अपना पहला विकेट 20वें ओवर में 137 के स्कोर पर समराविक्रमा के रूप में खोया। समराविक्रमा को मोईन अली ने 54 के  निजी स्कोर पर बोल्ड आउट किया। निरोशन डिक्वेला ने भी शानदार बल्लेबाजी करते हुए अपना आठवां अर्धशतक पूरा किया किया। डिक्वेला ने कप्तान दिनेश जानेमन के साथ मिलकर टीम के स्कोर के आगे बढ़ाया और दूसरे विकेट के लिए 41 रनों की महत्वपूर्ण साझेदारी निभाई। वे दुर्भाग्यशाली रहे और अपना तीसरा वनडे शतक लगाने से चूक गए और 95 रन बनाकर मोइन अली का शिकार बने।
चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने आए कुशाल मेंडिस ने आते ही इंग्लैंड के गेंदबाजों की पिटाई शुरू कर दी और उसने मात्र 30 गेंदों में एक चौका और छह छक्के की मदद से अपना अर्धशतक पूरा किया। कप्तान चांदीमल और मेंडिस ने 75 गेंदों में चौथे विकेट के लिए 100 रनों की साझेदारी देखकर श्रीलंका को बड़े स्कोर की तरफ ले गए। मेंडिस 56 के स्कोर पर बड़े शॉट खेलने के चक्कर में लाइम प्लांकेट की गेंद पर बाउंड्री के नीचे बेन स्टोक्स के हाथों लपके।
श्रीलंका को जिस रन गति और पारी की जरूरत थी उस भूमिका को मेंडिस ने बखूबी से निभाया। दिनेश चंदीमल ने कप्तानी पारी खेलते हुए अपना 22वां  अर्ध शतक ठोका। उन्होंने 73 गेंदों में छह चौके और 2 छक्के की मदद से शानदार 80 रन बनाए। श्रीलंका ने निर्धारित 50 ओवरों में 6 विकेट के नुकसान पर 366 रनों का बड़ा स्कोर खड़ा किया। इंग्लैंड की ओर से टॉम करन और आदिल रशीद ने दो-दो विकेट लिए जबकि बेन स्टोक्स और लाइम प्लंकेट को एक-एक विकेट मिला।
366 रनों के बड़े लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड टीम की शुरुआत बहुत खराब रही। उसने मात्र 10 गेंदों के अंदर चोटी के तीन बल्लेबाजों को खो दिया। जेसन रॉय(4) को कसुन रजीथा ने पहले ओवर की अंतिम गेंद में क्लीन बोल्ड किया। दुष्मंथा चमीरा ने अलेक्स हेल्स को दूसरे ओवर की दूसरी गेंद पर पहले स्लिप में खड़े कुशाल मेंडिस के हाथों शानदार कैच पकड़ाकर आउट किया। हेल्स (0) चमीरा के आउट स्विंग होती गेंद को समझ नहीं पाए और मेंडिस को कैच थमा बैठे। कप्तान जोस बटलर भी कुछ कमाल नहीं कर पाए और उसी ओवर की चौथी गेंद पर विकेट के पीछे लपके गए। चमीरा ने जोस बटलर को बिना खाता खोले पवेलियन का रास्ता दिखाया।
इंग्लैंड टीम इससे पहले कि शुरुआती 3 विकेट खोने के बाद संभल पाती चमीरा  ने एक बार फिर शानदार गेंदबाजी का प्रदर्शन करते हुए जो रूट को 10 के निजी स्कोर पर गली में खड़े समरविक्रमा के हाथों बेहतरीन कैच करवाया। इंग्लैंड 28 रन पर 4 विकेट खोकर मुश्किल स्थिति में थी। ऐसे समय में बेन स्टोक्स और मोईन अली ने टीम को संभालते हुए अर्धशतकीय साझेदारी दी। इन दोनों बल्लेबाजों ने पांचवें विकेट के लिए 79 रनों की महत्वपूर्ण साझेदारी दिया। बेन स्टोक्स ने इसी बीच अपना 13वां पचासा ठोका।
श्रीलंका के अकीला धनंजय ने इंग्लैंड की जम चुकी इस जोड़ी को तोड़ा । धनंजय ने मोईन अली को 37 के स्कोर पर आउट कर इंग्लैंड को पांचवां झटका दिया। तब इंग्लैंड का स्कोर 107 रन था और यहीं से मैच का पूरा पाशा ही बदल गया। इंग्लैंड टीम का स्कोर एक समय 107/4 था और यहीं से मैच का  रुख बदला और उसने मात्र 25 रन पर अपने छह  विकेट गंवाकर 132/9 हो गया। अकीला धनंजय ने कमाल की गेंदबाजी करते हुए 6 .1 ओवर में  19 रन देकर 4 विकेट लिए। बेन स्टोक्स अपने अर्धशतकीय तारी को ज्यादा आगे नहीं बढ़ा सके और 67 रन बनाकर धनंजय का शिकार बने।
इंग्लैंड का स्कोर जब 26.1 में 132/9 था तभी बरसात आ गई और मैच को रोकना पड़ा। मैच का परिणाम डीआरएस पद्धति से निकाला गया और श्रीलंका को 219 रनों से विजय घोषित किया ।मैच में श्रीलंका के बल्लेबाजों और इंग्लैंड के बल्लेबाजों के प्रदर्शन में जमीन आसमान का अंतर था। श्रीलंका के शीर्ष 4 बल्लेबाजों ने जहां 95, 54, 80 और 56 रनों की पारी खेली वहीं इंग्लैंड के शीर्ष 4 बल्लेबाजों ने 4, 0, 10 और 0 रन बनाए। श्रीलंका के सलामी बल्लेबाजों ने जुलाई  2017 के बाद पहली बार शतकीय साझेदारी निभाई। दिनेश चांदीमल ने 18 पारियों के बाद पहला अर्धशतक तक लगाया।
इंग्लैंड के लिए यह मैच काफी खास रहा क्योंकि क्योंकि 19 साल बाद पहली बार इंग्लैंड की ओर से दो भाइयों ने एक साथ मैच खेला। सैम करन और टॉम करन और टॉम करन इंग्लैंड की ओर से इस मैच में खेलते नजर आए। इंग्लैंड की ओर से दो भाइयों ने एक साथ वनडे मैच 1999 में एडम और बेन होलीओक ने खेला था।
श्रीलंका के निरोशन डिक्वेला को उसके शानदार अर्धशतकीय पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया जबकि इंग्लैंड के कप्तान इयान मोर्गन को सीरीज में बेहतरीन बल्लेबाजी करने के कारण मैन ऑफ द सीरीज के खिताब से नवाजा गया। मोर्गन ने चार मैचों में 195 की औसत से 195 रन बनाए जिसमें दो अर्धशतक शामिल है।
मैच समाप्त होने के बाद दोनों टीमों के कप्तान और मैन ऑफ द मैच डिक्वेला ने क्या कहा, जानते हैं-
इयान मोर्गन (इंग्लैंड कप्तान) : मुझे इस बात से बहुत खेद है कि हमने श्रृंखला  का  अंत हार के साथ किया। श्रीलंका ने हमारी कमजोरी का बहुत फायदा उठाया। आज श्रीलंका टीम ने बहुत ही शानदार खेल का प्रदर्शन किया। हमारे प्लेइंग इलेवन में खिलाड़ी को अपने प्रदर्शन को सुधारने का काफी मौका था लेकिन हमने आज अच्छा नहीं खेले। मुझे इस बात की कोई शिकायत नहीं है लेकिन हमारे पास काफी मौके थे। हमें ऐसे मंच की आवश्यकता होती है जिसमें अपनी योजनाओं और कौशल को ठीक प्रकार से निष्पादित कर सकें । अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट एक बहुत बड़ा मंच है, इससे हमें काफी कुछ सीखने को मिलता है। हमने तीन मैच जीते, इस मैच की गलती  से हमें काफी कुछ सीखने की जरूरत है। जब आप विश्व कप की तैयारी कर रहे हैं हो तो निजी रूप से इसमें कोई फर्क नहीं पड़ता है। विश्व कप में जब 15 खिलाड़ियों की चयन की बात होती है तो हमें देखना पड़ता है कि हम अपने खेल में किस प्रकार प्रगति कर रहे हैं।
दिनेश चांदिमल (श्रीलंका कप्तान) : सलामी बल्लेबाजों ने निश्चित रूप से बहुत अच्छी साझेदारी दी जिसका हमें फायदा मिला और उसके बाद मैंने और कुशाल मेंडिस ने अच्छा काम किया। हम सभी ने इसके लिए काफी मेहनत की थी। मैं जीत का श्रेय  सभी खिलाड़ियों को देना चाहता हूं। इस मैच में हमने फील्डिंग में काफी सुधार किया । फील्डिंग ही ऐसा क्षेत्र है जिसमें पूरा नियंत्रण हमारे हाथों में होता है क्योंकि बल्लेबाजी और गेंदबाजी को हम नियंत्रित नहीं कर सकते हैं। आप जानते हैं कि हमारी टीम एक युवा टीम है और हम प्रत्येक मैच में सुधार कर रहे हैं। हम लगातार अच्छा प्रदर्शन करने की कोशिश में लगे हैं। अगले सीरीज में हम इससे बेहतर प्रदर्शन करने की कोशिश करेंगे।
निरोशन डिक्वेला (मैन ऑफ द मैच द मैच, श्रीलंका) : एक अच्छी पारी थी। मैं बहुत खुश हूं कि सीरीज में मैंने अच्छे बल्लेबाजी किया। मुझे इस बात की खेद है कि अपनी पारी को शतक में बदल नहीं पाया। इस बात की मुझे बहुत ज्यादा खुशी है कि हमने मैच को आज जीता। मैंने बल्लेबाजी कोच से बेटिंग में सुधार के लिए बात की थी और उन्होंने मेरी काफी मदद की। गेंदबाजों के लाइन और लेंथ को बिगाड़ने के लिए मैंने क्रीज से बाहर जाकर खेला। स्पिन गेंदबाजों के खिलाफ मैंने अपने स्ट्राइक को बदलतेे रहने का प्रयास किया।"
Powered by Blogger.