IND vs WI 5th ODI Highlights : जडेजा के फिरकी में फंसकर 104 में ढेर हुई विंडीज ,9 विकेट से रौंदकर जीती वनडे सीरीज

भारत ने  विंडीज को पांचवें वनडे मैच में रविंद्र जडेजा के दमदार गेंदबाजी प्रदर्शन के दम पर गुरुवार को 9 विकेट से करारी शिकस्त दी। इस जीत के साथ ही भारत ने सीरीज को  3-1 से अपने नाम कर लिया। भारत की यह  लगातार छठी वनडे सीरीज जीत है। रविंद्र जडेजा ने घातक गेंदबाजी करते हुए 34 रन देकर 4 विंडीज के बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा। उसके शानदार गेंदबाजी के बल पर ही भारत ने विंडीज को  104 रनों में समेट दिया और 1 विकेट खोकर लक्ष्य को हासिल कर लिया। रोहित शर्मा ने 56 गेंदों में नाबाद 63 रनों की पारी खेली जबकि विराट कोहली 29 गेंदों में 33 रन बनाकर नाबाद रहे। जडेजा को उसके बेहतरीन गेंदबाजी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया।

Rohit Sharma smashed unbeaten 63 off 56 against WI in 5th ODI
रोहित शर्मा  5वें वनडे मैंच में छक्का लगाते हुए 
वेस्टइंडीज के कप्तान जेसन होल्डर ने तिरुवंतपुरम के ग्रीनफील्ड इंटरनेशनल स्टेडियम में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया, जो गलत साबित हुआ। भुवनेश्वर कुमार ने पहले ही ओवर में वेस्टइंडीज को बड़ा झटका दिया। उन्होंने चौथी गेंद पर कायरन पावेल (0) को धोनी की हाथों कैच करवाकर पवेलियन का रास्ता दिखाया। अगले ही ओवर में जसप्रीत बुमराह ने बेहतरीन फॉर्म में चल रहे शाई होप को खाता खोले बिना क्लीन बोल्ड कर वेस्टइंडीज का दूसरा विकेट लिया। शुरू में 2 विकेट गिरने बाद मार्लों सैमुअल्स और रोवमन पॉवेल ने विकेट गिरने के सिलसिले को  रोका। इन दोनों बल्लेबाजों ने और कोई विकेट गिरने नहीं दिया और विंडीज पारी को 11वें ओवर तक ले गया।

12वें ओवर से खेल का पूरा रुक भारत की तरफ मुड़़ गया। रविंद्र जडेजा ने इसी ओवर में मार्लन सैमुअल्स को कोहली के हाथों कैच करवाकर भारत को तीसरी सफलता दिलाई। सैमुअल्स (24) एक रन चुराने की कोशिश में कवर में खड़े कोहली को आसान कैच थमा बैठे। उसने 38 गेंदों में तीन चौके और एक छक्का लगाया। वेस्टइंडीज की  पूरी उम्मीदे अब हेटमायर पर थी लेकिन वे भी 9 रन बनाकर  जडेजा की गेंद पर एलबीडब्ल्यू आउट हुए । रोवमन पॉवेल भी कुछ ओवर बाद खलील अहमद की गेंद पर छक्का मारने की कोशिश में फाइन लेग  में खड़े शिखर धवन को कैच दे दिए। उसने 39 गेंदों में 16 रन बनाए। पॉवेल के आउट होने के बाद विंडीज टीम पूरी तरह बिखर गई और एक-एक कर सभी बल्लेबाज बल्लेबाज आउट होते गए और पूरी टीम 31.5 ओवर में 104 रनों में ऑल आउट हो गई। वेस्टइंडीज की ओर से सर्वाधिक 25 रन कप्तान जैसन होल्डर ने बनाए जबकि भारत की ओर से सबसे अधिक चार विकेट रविंद्र जडेजा ने चटकाए।

वेस्टइंडीज के 105 रनों के छोटे से लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत खराब रही और उसने दूसरे ही ओवर में शिखर धवन के रूप में अपना पहला विकेट खो दिया । धवन 6 रन बनाकर ओसाने थॉमस की गेंद पर बोल्ड आउट गए।  भारत ने उसके बाद एक भी विकेट नहीं खोया और 11.5 ओवर में 105 रन बनाकर 9 विकेट से मैच को अपने कब्जे में किया। रोहित शर्मा ने आतिशी  पारी खेलते हुए अपना 37 वां अर्धशतक लगाया। वे 56 गेंदों में 5 चौके और 4 छक्के की मदद से 63 रन बनाकर नाबाद रहे जबकि कप्तान विराट कोहली छह चौके की मदद से नाबाद 33 रन बनाए।

चौथे वनडे मैच की तरह पांचवें वनडे में भी वेस्टइंडीज खेल के तीनों क्षेत्र में फिसड्डी साबित हुई और भारत ने हर क्षेत्र में दमदार खेल दिखाया। बल्लेबाजी और गेंदबाजी  के साथ भारत ने क्षेत्ररक्षण में भी कमाल का प्रदर्शन करते हुए सबको आश्चर्यचकित कर दिया। इस मैच में खासकर गेंदबाजों ने अपने शानदार प्रदर्शन से सभी को हैरान कर दिया। भारत के सभी गेंदबाजों ने बढ़िया गेंदबाजी करते हुए विकेट चटकाए। रविंद्र जडेजा ने सबसे अधिक 4 विकेट लिए तो जसप्रीत बुमराह और खलील अहमद ने दो-दो विकेट चटकाए जबकि एक-एक विकेट भुवनेश्वर कुमार और कुलदीप यादव को मिला।

शुरुआत के तीन मैचों में अपने दमदार प्रदर्शन से सबको अचंभित कर देने वाली वेस्टइंडीज की यह युवा टीम अंतिम दो मैचों में बहुत ही खराब खेली। आखरी के दो मैचों में विंडीज के ना ही किसी बल्लेबाज ने अच्छा प्रदर्शन किया ना ही गेंदबाजों ने। पूरी विंडीज  टीम फ्लॉप रही  और भारत ने प्रत्येक फील्ड में अच्छा खेल दिखाया, खासकर गेंदबाजी ने।

वेस्टइंडीज के बल्लेबाजों ने शुरुआती तीन मैचों में भारत के सभी गेंदबाजों की खूब पिटाई की थी और इंडिया के लगभग हर गेंदबाज ने 6 की इकोनामी  से रन दिए थे सिर्फ जसप्रीत बुमराह को छोड़कर । भुवनेश्वर कुमार, कुलदीप यादव , चहल, जडेजा,उमेश यादव ,खलील अहमद  सभी गेंदबाजों ने खूब रन दिए थे  लेकिन अंतिम दो मैचों में इन्हीं गेंदबाजों ने बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए चौथे वनडे में विंडीज को 153 रनों ढेर किया और इस मैच में तो 104 रनों में  समेट दिया। शुरू के तीन मैचों में सभी गेंदबाजों की धुनाई करने वाले वेस्टइंडीज के बल्लेबाज चौथे और पांचवें वनडे मैच में रन बनाने के लिए जूझते दिखे।

विराट कोहली को सीरीज में सबसे अधिक रन बनाने के लिए मैन ऑफ द सीरीज के खिताब से नवाजा गया। कोहली ने 5 मैचों में तीन शतकों की मदद से 453 रन बनाए।
जानिए, मैच समाप्त होने के बाद दोनों टीमों के कप्तानों और खिलाड़ियों ने क्या कहा –
विराट कोहली (कप्तान, भारत) : हमने बहुत आसानी से विंडीज को हराया। हमारे पास कुछ ही घंटों में हराने की काबिलियत थी । पूरी गेंदबाजी इकाई को जीत का श्रेय देना चाहता हूं। गेंदबाजों ने सही जगह पर गेंदबाजी की। हम पहले गेंदबाजी करना चाहते थे और ऐसा ही हुआ, इसके लिए मैं  धन्यवाद देना चाहता हूं। अंतिम दो मैचों में हमने बल्ले और गेंद दोनों से बेहतरीन प्रदर्शन किया। जब आप अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो एक नई ऊर्जा मिलती है और सभी इसका हिस्सा होना चाहते हैं। मैं दो क्षेत्रों के बारे में बात करना चाहूंगा - एक, विश्व कप  और दूसरा, हमारे तेज गेंदबाजी ।खलील अहमद ने असाधारण गेंदबाजी किया। रायडू चौथे नंबर पर अपनी जिम्मेवारी को अच्छी तरह से निभा रहे हैं। भूवी और बुमराह से आप बहुत उम्मीदें कर सकते हैं और वे खरे भी उतरते हैं। खलील को जब भी गेंदबाजी के लिए बुलाता, वह विकेट लेकर हमें देता। मैंने अपने भाषण में कहा था कि हम दो चीजों पर ध्यान दे रहे हैं - विश्व कप और और तेज गेंदबाजी। जब आप कप्तान के रूप में रन बनाते हैं तो यह बोनस होता है। पुरुस्कार उत्पाद के जैसा होता है। आप मैदान में जैसा करते है,आप  वैसा ही पाते है।

जेसन होल्डर (कप्तान, वेस्टइंडीज) : हम लोग जिस तरह खेल का अंत करना चाहते थे वैसा नहीं हुआ। पिछले दो गेमों में हमने बहुत खराब खेला। घटिया बल्लेबाजी की। भारत में आकर भारत के खिलाफ हमारे खिलाड़ियों ने सराहनीय प्रदर्शन किया। पिच बहुत अच्छा था। उनके गेंदबाजों ने सही जगह पर गेंदबाजी किया। हमारे बल्लेबाज  गलत शॉट खेलकर आउट हुए इसके लिए पिच को दोषी नहीं देता सकता। हमें संभलकर खेलना चाहिए था। मैं सोचता हूं कि पिच बहुत अच्छा था ,इसमें हम 300 से अधिक रन बना सकते थे। युवाओं के प्रदर्शन से खुश हूं। हेटमायर, होप ने कमाल की बल्लेबाजी  की। हमें थोड़ा और मेहनत करने की जरूरत थी।
रविंद्र जडेजा (मैन ऑफ द मैच, भारत) : मैंने गेम का मजा लिया। जब भी  मैं मैदान में जाता हूं, अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की कोशिश करता हूं। मैं दोनों हाथों से मिले मौके का फायदा उठाने की कोशिश किया।
भुवनेश्वर कुमार (खिलाड़ी, भारत) : यह एक अच्छा अनुभव था। मुझे दो मैचों के लिए आराम दिया गया इसलिए NCA में जाने के लिए मेरे पास पर्याप्त समय था। मैं कुछ गेंदों जैसे कि Knuckle गेंदों और यॉर्कर्स को पॉलिश करने की कोशिश कर रहा था। हमारी योजना के अनुसार सब कुछ हो रहा था। रायडू ने चौथे नंबर पर बहुत अच्छी बल्लेबाजी किया। वर्ल्ड कप से पहले हमारे पास दो ही दौरा ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड का बचा हुआ है। मैं आशा करता हूं कि इन दोनों सीरीज में हम बढ़िया प्रदर्शन करेंगे और इसी आत्मविश्वास के साथ वर्ल्ड कप में जाएंगे।
कुलदीप यादव (खिलाड़ी, भारत ) : विकेट से काफी टर्न मिल रही थी। कंट्रोल करना बहुत मुश्किल था। हमें बॉल को ज्यादा स्पिन न कराकर सही जगह पर गिराने की जरूरत थी। इस प्रकार की विकेट में आपको सही एरिया पर गेंद को डालनी पड़ती है। विशाखापट्टनम का मैच मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण था। वहां औंस बहुत ज्यादा गिर रही थी और मैंने अच्छी गेंदबाजी करते हुए 3 विकेट लिए।  यह मेरे लिए बहुत आवश्यक  था
Powered by Blogger.